Search This Blog

Followers

Message

भूमिका
आज हम सभी जानते है कि हमें ज्ञान पाने के लिये कुछ न कुछ पढ़ना चाहिए, लेकिन क्या पढ़े यह बहुत कम लोग जानते है। ज्ञानी और विद्वान लोगो का मानना है कि पढ़े-लिखे और समझदार इंसान को इशारा ही काफी होता है। जी हां, आज के युग में किसी भी क्षेत्र की बात की जाये तो हम पायेंगे की न सिर्फ हमारी युवा पीढ़ी, बल्कि समाज का हर वर्ग तरक्की के मामले में आसमान तो क्या मंगलग्रह की बुलदिंयो को छू रहा है। फिर भी न जानें इतनी तरक्की के बावजूद आज समाज में स्वार्थ और अंधकार का माहौल क्यूं बढ़ता जा रहा है? बहुत कम लोग जानते है कि शिक्षा का पहला मकसद दिमाग और शरीर की सफाई करना होता है। कल तक हर शख्स सीधी-सादी जिंदगी से बहुत खुश था। सब लोग हर समय प्यार से हंसते-खेलते और हर समय खुश नजर आते थे। गम, परेशानी और अंधकार की छाया दूर-दूर तक कहीं दिखाई नहीं देती थी। यह भी ठीक है, कि अच्छी शिक्षा के कारण हर इन्सान अपनी जिम्मेदारियों को ठीक तरह से समझते हुए निभा रहा है। भगवान ने हमें इतनी बुद्वि दी है कि हम जीवन में कुछ भी बनना चाहे, कुछ भी पाना चाहे तो ठीक राह पर चले हुए अपनी मंजिल को पा सकते है।
हमारे बड़े बर्जुगो का यह मानना है कि मिल-जुल कर परस्पर विचार-विमर्श से ही हर बड़ी समस्या का समाधान किया जा सकता है। जात पात में कुछ नही रखा, व्यक्ति के काम और गुणों से ही उसे परखा जाता है। हमारी वाण्ाी से ही लोग हमारे दोस्त या दुश्मन बनते है। अपने जीवन के तर्जुबे के आधार पर जब वो ऐसी बाते समझाने का प्रयास करते तो नई पीढ़ी को यह सब कुछ एक बोझ सा प्रतीत होता है। युवाओं को यह कभी नही भूलना चहिये कि अधूरे ज्ञान के कारण कई बार जल्दबाजी में फैसले कर दिये जाते हैं, जबकि अनुभव से जीवन के हर पहलू में सूझ-बूझ पैदा होती है। जीवन में हर वस्तु के दो पहलु होते है, आप जब उज्जवल पक्ष को ही देखते हुए प्रयास करते है, तो जल्द ही मंजिल आपके करीब होती है॥
लेकिन इस बात को भी नकारा नहीं जा सकता, कि आधुनिकता के नाम पर हम अपने सदियों पुराने संस्कारों को भूल कर दिखावे को अधिक पंसद करने लगे है। अपनी कलम के माध्यम से मैने परिवार और समाज के हर वर्ग में प्रेम और आपसी नजदीकियों को और अधिक मजबूत करने का एक खास प्रयास किया है। रिश्तो को बेहतर तरीके से निभाने के लिये कैसे छोटी-छोटी बातों में सावधानी रखी जाये कि हर परिवार और समाज में केवल खुशीयां ही खुशीयां महके। हमें जीवन में कुछ भी पाना है तो सदैव यह याद रखना चहिये कि विनम्रता प्राप्ति की पहली सीढ़ी है। मेरा यह मानना है कि अच्छे ज्ञान से ही हमें यह पता चलता है कि धर्म और अधर्म में क्या फर्क होता है? इसीलिये समय की मांग के मुताबिक मैंने अपने लेखों द्वारा समाज के हर वर्ग को इशारों-इशारों में अपने मन की बात पहुंचाने की कोशिश की है।
हास्य और व्यंग्य के संगम से मैंने अपने लेखों में गागर में सागर भरने का एक तुच्छ सा प्रयास किया है। इससे पहले आपने मेरी हास्य की तीन पुस्तकों को प्यार और सराहना से सफलता की ऊंचाईयों तक पहुंचाया है, उसके लिये मैं आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ। मुझे पूरी उम्मीद है कि ''इषारा'' पुस्तक के मेरे लेख एवं कहानियां आप सभी के सहयोग से समाज को एक नई सकारात्मक दिशा देने में सहायक होगे। विद्वान और ज्ञानी लोगो से तो यही शिक्षा मिलती है कि जब कभी भी मिलकर किसी नेक काम के लिये हिम्मत का पहला कदम आगे बढ़ाओ तो परमात्मा की सम्पूर्ण मदद स्वयं ही मिल जाती है।

मैंने इस बात का ध्यान रखते हुए पूरा प्रयत्न किया है, कि मेरे लेख सिर्फ एक छोटी सी कहानी बनकर न रह जायें, बल्कि एक लम्बें अरसे तक आपके मन को तरो-ताजा रख सकें। हर देशवासी के अंदर समाज में जागरूकता लाने के साथ यदि कुछ नेक काम करने का जज्बा पैदा होता है तो मैं समझूंगा कि मेरा यह प्रयास सफल रहा। हर क्षेत्र में अपने सभी देशवासियों की सफलता और खुशहाली की कामना के साथ भगवान से यही प्रार्थना है, कि वो आप सभी के जीवन को सुखमय बनाकर उजालों से भर दें। आपसे इसी प्रकार के आर्शीवाद की कामना करते हुए भगवान से दुआ करता  हूँ कि आपका सारा परिवार सदा हंसता-मुस्कुराता रहे, इन्ही शुभकामनाओं के साथ :


जौली अंकल
15-16/5, कम्नूयिटी सैंटर,
नारायणा, फेज-1
नई दिल्ली-110028
फोन: 011-65453115 फैक्स: 011-45418083