Search This Blog

Followers

Tuesday, April 13, 2010

कहीं देर न हो जाऐं

टीचर ने गप्पू को डांटते हुए कहा कि कम से कम सैंकड़ों बार तुम्हें समझा चुका  हूँ कि स्कूल शुरू होने का समय सुबह सात बजे है। परन्तु तुम इतने ढीठ हो चुके हो कि कभी भी क्लास में आठ बजे से पहले नही आते। गप्पू ने मसखरी हंसी हंसते हुए कहा कि मैंडम आप मेरी चिंता बिल्कुल मत किया करो। आप अपना स्कूल समय पर शुरू करवा दिया करो। टीचर ने अपने गुस्से पर थोड़ा काबू रखते हुए गप्पू से पूछा कि हर दिन स्कूल में देरी से आने का कोई न कोई बहाना तुम्हारे पास जरूर होता हैआज कौन सा नया बहाना लेकर आये होगप्पू ने बिना किसी झिझक के मैंड़म से कहा कि आज तो स्कूल के लिये तैयार होने में ही इतनी देर हो गई कि कोई बहाना सोचने का समय ही नही मिला। ऐसे किस्से सिर्फ स्कूलों में ही देखने को मिलते हैऐसी बात नही है। सरकारी दफतरों और खास तौर से अस्पतालों में इस तरह किस्से कहानियों की तो भरमार है। चंद दिन पहले हमारे पड़ोसी मुसद्दी लाल जी को दिल का दौरा पड़ गया। सभी घरवाले उन्हें तुरन्त ही पास के एक नजदीकी सरकारी अस्पताल में इलाज के लिये ले गये। वहां का महौल देख कर तो ऐसा लग रहा था कि शायद आज सारे शहर के लोग बीमार होकर यहां आ गये है। जगह-जगह दीवार पर लगी तख्तीयां पर लिखे इस संदेश को कि कृप्या शांत रहे अनदेखा करते हुए लोग मछली बाजार की तरह शोर मचा रहे थे। इस महौल में मुसद्दी लाल जी की तबीयत और बिगड़ती जा रही थीलेकिन डॉक्टर साहब का अभी तक कोई अता पता नही था। उनके बेटे ने अस्पताल के एक कर्मचारी से जब डॉक्टर साहब के आने के बारे में पूछा तो टका सा जवाब मिला कि डॉक्टर साहब थोड़ी देर पहले ही आये है। परन्तु रास्ते में टै्रफ्रिक जाम के कारण थक गये हैइसलिये थोड़ा आराम कर रहे है। आप शंति के साथ थोड़ा इंतजार करोडॉक्टर साहब के आने पर आपका इलाज शुरू हो जायेगा। मुसद्दी लाल के बेटे ने डरते हुए कहा मेरे पिता जी की तबीयत बहुत बिगड़ रही हैकहीं ऐसा न हो कि डॉक्टर साहब के आने तक बहुत देर हो जाये। जैसे-जैसे समय बीतता जा रहा थामुसद्दी लाल जी के घर वालों के गुस्से का पारा भी तेजी बढ़ता जा रहा थालेकिन कोई भी कुछ भी करने में अपने आप को असमर्थ पा रहा था। काफी देर बाद जब डॉक्टर साहब आराम फरमा कर बाहर आये तो वहां खड़े हर किसी ने इंसानियत की सभी मर्यादयों को तोड़ते हुए जानवरों जैसा व्यवहार शुरू कर दिया। मुसद्दी लाल जी का थोड़ा बहुत चैकअप करने के बाद डॉक्टर ने कुछ गोलीयां खाने को दे दी और साथ ही इलाज शुरू करने से पहले दिल की गहन जांच के लिये इंजोग्राफी करवाने को कह दिया।
अब सभी घरवाले मुसद्दी लाल जी को लेकर इंजोग्राफी करने वाले विभाग की और भाग रहे थे। वहां भी बहुत देर तक इंतजार करने के बाद बड़ी मुशकिल से एक नर्स से मुलाकात हो सकी। उसने बिना कुछ भी सुने डॉक्टर की पर्ची को देखते ही उस पर तीन महीने बाद की तारीख ड़ाल दी। पर्ची पर तीन महीने बाद की तारीख देखते ही मुसद्दी लाल के बेटे का मन कर रहा था कि ऐसे करूर कर्मचारीयों को गोली मार दे। लेकिन पिता की तेजी से बिगड़ती हालात की गंभीरता और नजाकत को समझते हुए उसने गिड़गिड़ाते हुए उस नर्स से इतना ही कहा कि आपको क्या लगता है कि ऐसी हालत में मेरे पिता जी तीन महीने तक बच पायेगे। नर्स ने बिना उनकी और देखे ही कह दिया यदि इन्हें कुछ हो जाता है तो आप फोन करके हमें सूचित कर देना ताकि हम वो तारीख किसी और मरीज को दे सके।
ऐसे में गरीब आदमी दोष दे भी तो किस कोअस्पताल के कर्मचारी बढ़ते काम को अधिक बोझ बता करसरकार देश में बेलगाम बढ़ती अबादी और सीमित कर्मचारीयो एवं संसाधनों का रोना रो कर अपना पल्ला झाड़ लेती है। सरकार में जिम्मेदारी के सभी पदों पर बैठे देश के रहनुमाओं को यह कभी नही भूलना चहिये कि गरीबो के शाप से कई देश बर्बाद हो गए हैकई बार राजाओं को अपनी गद्दी तक छोड़नी पड़ी है। आदमी गरीब हो या अमीर जीवन सभी का अनमोल होता हैऐसे में कोरी बहाने बाजी करने से न तो किसी समस्यां का हल निकल सकता है और न ही किसी का जीवन बचाया जा सकता है। सदैव यह याद रखो कि समय ही जीवन हैसमय को बर्बाद करना अपने जीवन और देश को बर्बाद करने के समान है। अब यदि आपको दूसरों की प्रतीक्षा करने की पड़ ही चुकी है तो आप दुसरों की अपेक्षा अवश्य ही पीछे रह जाएंगे। अभी भी इतनी देर नही हुई है कि हम हर तरफ से उम्मीद ही छोड़ दे। कभी भी अपने जीवन में आशा न छोड़ेआशा एक ऐसा पथ है जो जीवन भर आपको गतिशील बनाए रखता है। जो व्यक्ति जीवन में उम्मीद खो देता है समझों कि उसने सब कुछ खो दिया।

जौली अंकल बिना और देरी किये अपने मन की भावनाओं को आपके सामने कुछ इस व्यक्त करते है कि कभी भी इस तरह से धन न कमाओं कि आपके हाथों कोई पाप हो जाऐं और जीवन में कभी भी इस तरह से न चलों की कहीं देर न हो जायें। 

No comments: