Search This Blog

Followers

Thursday, December 17, 2009

आखिर दिल है हिन्दुस्तानी

  • किसी भी पार्टी में 1-2 घंटे देरी से जाना भी इनको सामान्य लगता है।
  • नये सोफे को धूल से बचाने के लिये हमेशा चध्दर से ढ़क कर रखना।
  • एक ही कार में अधिक से अधिक लोगो को बैठाना इनकी शान में शामिल है।
  • दूसरे शहर या दूर के किसी देश में फोन करते समय जोर-जोर से चिल्लाना।
  • हर प्रकार के लिफाफे, प्लास्टिक के डिब्बे आदि को बार-बार इस्तेमाल करना।
  • सैर-सपाटे के लिये एयरपोर्ट या स्टेशन पर सदा बड़े-बड़े सूटकेस लेकर जाना।
  • घर में किसी भी प्रकार के उत्सव पर हर काम का बढ़ा-चढ़ा कर ब्खान करना।
  • खाने की हर चीज में प्याज, लहुसन, खूब सारे गर्म मसाले और अधिक घी डाल कर खाना।
  • मुहल्ले की किसी लड़की के बारे में किसी प्रकार की कोई भी बात हो, उसकी पूरी जानकारी रखना।
  • नये टी.वी. के रिमोट कंन्ट्रोल, कार के सीट कवर आदि को महीनो तक प्लास्टिक से कवर करके रखना।
  • बच्चे कितने भी बड़े क्यूं न हो जाऐ, उनको सब लोगो के बीच रिंकू, टिंकू, पप्पू, बंटी, बब्ली आदि नाम से पुकाराना।
  • बच्चे किसी कारण से कभी कही दूर रहने के लिये जाये, तो आधी रात को फोन करके उससे जरूर पूछना कि क्या खाना खा लिया है?
  • डाक विभाग कभी किसी चिठ्ठी पर गलती से डाक टिकट पर मोहर न लगाऐ, तो उसे तुरन्त उतार कर संभाल लेना।
  • इन के घर पर कोई आये या यह किसी के घर जाये, जाते समय दरवाजे पर कम से कम आधा घंटा बात करना जरूरी समझते है।
  • कोई भी आदमी किसी भी दूसरे शहर में मिले, उससे कुछ न कुछ जान-पहचान या रिश्तेदारी निकालने में महारत हासिल।
  • घर में शादी-विवाह या अन्य किसी प्रकार के उत्सव में 500 - 600 से कम लोगो को बुलाना इनकी शान के खिलाफ माना जाता है।
  • दारू पार्टी में दोस्तो और रिश्तेदारो पर रोभ जमाने के लिये नेताओ और अभिनेताओ के साथ रिश्तो की बड़ी-बड़ी ढीगें मारना।
  • भगवान ने किसी लड़की को कैसा ही रंग रूप दिया हो, लेकिन उसकी शादी-विवाह की बात चलते उसे हमेशा सुन्दर, सुशील, गोरी, स्मार्ट और बहुत ही पतली बताने में गर्व महसूस करते है।
  • एक पक्का हिंन्दुस्तानी अपने आस-पड़ोस और रिश्तेदारो के निजी मामलों की पूरी जानकारी रखता है और उसे बाकी सभी लोगो तक जल्द से जल्द पहुंचाने के काम बहुत ही तेजी से करता है।

लगता है, आपको भी जौली अंकल की यह चुटकीली बाते पढ़ने में बहुत मजा आ रहा है, आऐं भी क्यों न? आखिर हमारा दिल भी तो है हिन्दुस्तानी।             

No comments: